तेजन्यूजहेडलाईन्सचा तिसऱ्या वर्धापण दिन व दिवाळी निमित्त सर्व वाचकांना हार्दिक शुभेच्छा!

Wednesday, 20 May 2020

लॉक डाउन: रोजगार के लिए इधर उधर नहीं भटकते घर पर ही बनाया फेस शिल्ड



 जहां रोज़गार वही कोरोना संक्रमण से बचाएगा फेस शील्ड

मंगरुलपीर: (फुलचंद भगत)-दि.20अप्रैल
कोरोना वायरस की रोकथाम व बचाव को लेकर मंगरुलपीर जिला में राेल माॅडल बनकर उभर रहा हैं बात लाॅकडाउन की हो या फिर कोरोना से बचाव को लेकर आमजन में जागरूकता लाने की मंगरुलपीर में इस बार पुलिस,महसूल प्रशासन चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए एक और नवाचार हुआ हैं इस बार यह नवाचार यहहै कि
लाकडाउन के दौरान बे.रोज़गारी पैदा होगई थी कुछ लोग सरकार की ओर मदद के लिए देख रहे थे 
ऐसे में मंगरुलपीर निवासी एक परिवार विनोद ठाकुर पत्नी मोनिका ठाकुर, कोरोना के पार्श्वभुमी पर स्वयंरोजगार से फेस शील्ड तैयार की जहां इस फेस शील्ड से एक और रोजगार का सृजन होगा वहीं दूसरी और कोरोना को बचाने में सहयोग भि मिलेगा पति,पत्नी ने इस लॉक डाउन का लाभ लिया उन्होंने
कोरोना वायरस से संक्रमित संदिग्ध मरीजों की ओपीडी में जांच करने वाले तथा आईसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीजों के उपचार में लगे चिकित्सकीय टीम,पुलिस और महसूल प्रशासन के लिए फेस शील्ड का निर्माण किया है, वो भी घर में ही उन्होंने 
 प्रायोगिक तौर पर अभी कम ही मेडिकल फेस शील्ड बनाए हैं और इन्हें अपने तहसील के एसडीएम जयंत देशपांडे,मंगरुलपीर थानेदार धनंजय जगदाले,अदि अधिकारीयों को सौंप दिया है यह फेस शील्ड एमओ और ओपीडी व आइसोलेशन वार्ड में तैनात कर्मियों के लिए बेहद फायदा मंद हैं

मंगरुलपीर के उपविभागीय अधिकारी ने दिया ईनाम
मंगरुलपीर उपविभागीय अधिकारी जयंत देशपांडे नए उक्त परिवार को ईनाम देते हुए  बताया कि मंगरुलपीर में इस से पहले भी नवाचार किए गए है ऐसी विषम परिस्थितियों में डॉक्टर , नर्सिंग कर्मी , आशाएं सीमित साधनों के बावजूद दिन रात देवदूत की तरह कोरोना रूपी दैत्य से मुकाबला कर रहे हैं ये भी साधुवाद के पात्र हैंइस की अलावा अगर यही सोच रही तो कोरोना संकट के बीच मजदूरों को रोजगार के लिए पलायन नहीं करना होगा

 ऐसे बनाया फेस शील्ड
विनोद ठाकुर पत्नी मोनिका ठाकुर ने बताया की लॉक डाउन के कारण वह बेरोज़गार होगए थे
उन्होंने फेस शील्ड निर्माण का सोचा जिस में पतली प्लास्टिक ट्रांसपरेंट शीट, फोम, डबल-साइडेड टेप तथा वैलकाॅल टेप काम में लिया है कई फेस शील्ड में इलास्टिक का उपयोग किया एक फेस शील्ड में औसतन खर्चा 45 से 50 रुपए आया है

 एक्सपर्ट ओपिनियन
मंगरुलपीर में कोरोना आइसोलेशन वार्ड के प्रभारी व  फिजिशियन डाॅ. अजमल वहीद का छात्र द्वारा बनाए फेस शील्ड को मेडिकली उपयोगी बताया है उन्होंने बताया कि फेस शील्ड को मास्क पहनने के बाद पहनने से वार्ड में मरीजों के उपचार के दौरान उनसे सीधे संपर्क में आने से बचा जा सकेगा स्टाफ अपनी आंख, नाक, मुख तीनों को संक्रमण से बचा सकेगा

फुलचंद भगत
मंगरुळपीर/वाशिम
मो.9763007835/8459273206

No comments:

Post a comment